मेरा रंग दे बसंती चोला Poems

मेरा रंग दे बसंती चोला
मेरा रंग दे
ओह मेरा रंग दे बसंती चोला
माही रंगदे बसंती चोला | |

दम निकले इस देश के खातिर, बस इतना अरमान है
एक बार इस राह पे मरना, सौ जन्मों के समान है
देख के वीरों की कुर्बानी...
देख के वीरों की कुर्बानी, अपना दिल भी बोला || मेरा...................... ||

जिस चोले को पहन शिवाजी, खेले अपनि जान पे
जिसे पहन झांसिकी रानी, मिटगयी अपने आन पे
आज उसीको पहनके निकला...
आज उसीको पहनके निकला, हम मस्तों का टोला ||मेरा..................||

बड़ा ही गहरा दाग है यारों, जिस का देश गुलाम है
ओह जीना भी क्या जीना है, अपना देश गुलाम है
सीने में जो दिल था यारों...
सीने में जो दिल था यारों, आज बना दे शोला || मेरा.......................... ||


Reference: http://shahidbhagatsingh.org


More articles: Song Poems Hindi

Comments

Author: pankaj28 Nov 2009 Member Level: Gold   Points : 1

jago desh k naujavano,

jinhone apani jindagi haste haste loota di is desh k liye

aur hum apni jindagi loota rahe hai sirf KHUD k liye.

desh k bare me koi sochata hi nahi

jago jagp!!!



  • Do not include your name, "with regards" etc in the comment. Write detailed comment, relevant to the topic.
  • No HTML formatting and links to other web sites are allowed.
  • This is a strictly moderated site. Absolutely no spam allowed.
  • Name:
    Email: